असीम सफलता पाने के तीन वैज्ञानिक सूत्र

 यह जीवन एक ही बार मिला है और यह भी सफल न हो तो फिर इंसान के जीने का मकसद ही क्या? सफलता के मायने सभी के लिए अलग अलग होते हैं किसी के लिए सफलता का अर्थ है अथाह धन दौलत तो किसी के लिए सफलता का अर्थ है अच्छा जीवन किसी के लिए अच्छी गाड़ी तो किसी के लिए अच्छा घर लेकिन क्या सभी सफल हो पाते हैं?उत्तर है नहीं। ऐसा क्यों होता है कि कुछ लोग तो जीवन में बहुत अधिक सफल हो जाते हैं और कुछ निरंतर संघर्ष करते रहते हैं फिर भी अच्छा जीवन नहीं जी पाते। 


नमस्कार आज के इस ब्लॉग में सफलता पाने के तीन वैज्ञानिक सूत्रों से आपको अवगत कराएंगे। जीवन में आप यदि इन तीनों सूत्रों को लागू करेंगे तो मुझे विश्वास है कि आप सही दिशा की ओर चलते चले जाएंगे। आसमान की उन असीम ऊंचाइयो को छूने के लिए निरंतर संघर्ष करना पड़ता है और यही संघर्ष आपको एक दिन मीठे फल प्रदान करता है। इन मीठे फलों को प्राप्त करने में यह तीन सूत्र आप की निश्चित ही सहायता करेंगे-

1.निर्णय लीजिये- 

कहते हैं कि आपका निर्णय ही आपके भविष्य निर्माण का कार्य करता है आज आप जो भी है वह भूतकाल में लिए गए निर्णय के कारण है और आप आगे जो बनेंगे वह आज के निर्णय के कारण बनेंगे। एक सही निर्णय आपको सही दिशा की ओर अग्रसर करता है और एक गलत निर्णय आपको गलत दिशा की ओर अग्रसर करता है। आपको अपने अंदर निर्णय लेने की क्षमता को विकसित करना चाहिए सही और गलत का अंतर करना आपको आना चाहिए। एक सही निर्णय आपके उच्च मोटिवेशन का कारण भी बनता है। अब एक प्रश्न उठता है की क्या हमारे निर्णय हमेशा सही साबित होंगे तो इसका उत्तर है बिल्कुल नहीं आपका निर्णय गलत हो सकता है किंतु इसमें निराश होने वाली कोई बात नहीं ।हर सफल आदमी ने अपने जीवन काल में निर्णय लिए थे और उनमें से उनके बहुत से निर्णय गलत साबित हुए तो क्या वे सब निराश हो गए "नहीं" उन्होंने अपने गलत निर्णय से सीखा और उस सीख को सही निर्णय लेने का मंत्र बनाया। यदि आप से भी कोई गलती होती है तो उससे सीखिए वह गलती आपसे भविष्य मेें दोबारा ना हो उसका ध्यान रखिए। आप इस डर से निर्णय ही ना ले कि वह कहीं आगे चलकर गलत साबित ना हो जाए तो आप अपनी सफलता के मध्य अवरुद्ध का कार्य कर रहे है। समय के साथ हीआपके अंदर सही निर्णय लेने की क्षमता विकसित होगी इस बात का आपको सदैव ध्यान रखना चाहिए ।

2.लोगों के साथ संबंध मजबूत रखें

  आप भी अभी तक यदि यही समझते थे कि सफलता प्राप्त करने  के लिए लोगों से दूरियां बनाना बहुत जरूरी है तो अब आपको इस सोच को बदलने की जरूरत है। आप नहीं जानते कि  कौन व्यक्ति किस समय पर आपके काम आ जाए कोई ऐसा व्यक्ति जिससे आप सदैव दूरी बनाना चाहते हो शायद वही आपके बुरे वक्त में सहायता करे। आप बिना सपोर्ट सिस्टम के आगे नहीं बढ़ सकते इस बात को आपको स्वीकारना चाहिए। आपको जितना हो सके उतने अच्छे कनेक्शन बिल्ड करने चाहिए। जरा सोचिये आपने पैसा दौलत- शोहरत सब कमाली लेकिन अपने लोग यदि पीछे छूट गए तो विश्वास कीजिए आपने अभी तक कुछ नहीं कमाया। माना कि पैसे से नए रिश्ते बनाए जा सकते हैं परंतु उन रिश्तो में अपनापन कैसे लाओगे पूरी दुनिया आपका नाम ले रही होगी लेकिन आपका अपना आपकी तरक्की को सरहाने के लिए कोई नहीं होगा। मेरे कहने का तात्पर्य इतना ही है कि सफलता की राह में आगे बढ़ते वक्त आप अपने लोगों को ना भूल जाए सभी लोगों के साथ संबंध में मधुरताऔर मजबूती लाने का आपको सदैव प्रयास करते रहना चाहिए। 


3.हर दिन कुछ नया सिखते रहिए - 

जिसने सीखना बंद कर दिया उसने जीना बंद कर दिया सीखने का नाम असल में जिंदगी है। जीवन में एक बात आपको सदैव गांठ बांध लेनी है  कि प्रत्येक छड़ आप अपनी स्किल्स को बेहतर करने का प्रयास करते रहेंगे। क्या आपको मालूम है आज भी सफल लोग सीखने का कोई भी मौका नहीं छोड़ते माइक्रोसॉफ्ट के मालिक बिल गेट्स और बर्कशायर हैथवे के मालिक वारेन वफे़ आज भी किताबें पढ़ते हैं । इतने सफल हो जाने के बाद भी उन्हें सीखने की क्या जरूरत है क्या आपके मन में भी यह सवाल उठता है तो इसका उत्तर आज जान लीजिए। आपने एक बार सफलता प्राप्त कर ली तो क्या आपने अपनी जिंदगी का मकसद पूरा कर लिया। यदि आप भी यही समझते हैं तो मुझे अफसोस है अभी तो आपने अपने जीवन का केवल एक माइलस्टोन प्राप्त किया है जीवन तो अभी शुरू हुआ है यह तो आपने केवल और केवल भौतिक सफलता पाई है आध्यात्मिक सफलता का क्या? अभी तो आपने आध्यात्मिकता के बारे में कुछ जाना ही नहीं है जो भौतिक सफलता आपने पाई है वह भी स्थाई नही है। यह कभी भी नष्ट हो सकती है इस बात को आपको समझना चाहिए इन बातों को हर सफल व्यक्ति जानता है सफलता के शिखर पर बने रहने के लिए बिल गेट्स वाारेन    वफे़ और कई अन्य  सफल लोग हर दिन सीखना जारी रखते हैं और इसी कारण वे प्रत्येक दिन किताबें पढ़ते हैं हमने ऐसे कई उदाहरण देखे है जहाँ लोग सफलता के शिखर पर पहुँच तो गए थे लेेकिन अपने अहंकार,और अज्ञान के कारण मिट्टी में मिल गए। बदलती परिस्थितियों को न समझने से उनके सम्राज  ध्वस्त हो गये 

 सफलता पाने के केवल यही तीन सूत्र नही है। बल्कि अनुशासन, दृण संकल्प जैसे कई अन्य कारक भी महत्वपूर्ण भूमिका अदा करते है। इन तीन सूत्रों को आप अपने जीवन में अपना लेते है तो में पूर्ण विश्वास के साथ कह सकता हूँ  आप सही कदम सही दिशा की और ले लेंगे। आशा करता हूं मेरा यह ब्लॉग आपको पसंद आया होगा अगर इस ब्लॉग में त्रुटि हो गई हो तो उसके लिए हम क्षमा प्रार्थी है। आप अपने सजेशन कमेंट्स बॉक्स में हमें देते रहिए आपके सजेशन हमारी टीम के लिए दिशा निर्देश का कार्य करेंगे और हमें बेहतर कार्य करने के लिए भी प्रेरित करेंगे। तो इसी के साथ हम आपसे विदा लेते हैं मिलते हैं एक नए ब्लॉग मैं। 

Comments

Popular posts from this blog

अद्भुत ज्योतिर्लिंग बाबा बैद्यनाथ की कहानी

अमीर बनने के पाँच सिंद्धांत

कहानी ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग की