अमीर बनने के पाँच सिंद्धांत

 दोस्तों हर व्यक्ति की ख्वाहिश होती है की वह अमीर बने उसके पास भी अथाह धन दौलत हो उसके सारे सपने सच हो जाए लेकिन क्या वास्तव में ऐसा हो पाता है?  सपने तो बहुत लोग देखते हैं लेकिन क्या सच सभी के होते हैं नहीं ना| ऐसा क्यों होता है कुछ लोग तो बेहद अमीर बन जाते हैं तो कुछ केवल अपनी जरूरत ही पूरी करते रह जाते हैं । आज के इस ब्लॉग में हम आपको अमीरों के उन पांच सिद्धांतों के बारे में बताएंगे जिनका पालन करके आप अमीर बनने की राह की ओर अग्रसर हो जाएंगे। तो सिंंद्धांत नं १ कहता है


1. पहले बचाओ फिर निवेश करो -

 जब भी हमारे खाते में 1 तारीख को सैलरी क्रेडिट होती है तब हम ना जाने क्या क्या सपने पिरोने लगते हैं।अनाप शनाप खर्च करने लगते हैं और अंत में हमारे पास  कुछ नहीं रह जाता।  बहुत सारे लोग अक्सर यही गलती करते हैं इसी गलती के चलते वह कभी अमीर बन ही नहीं पाते ।पहले बचाओ फिर   निवेश करो का सिद्धांत कहता है की आप की सैलरी आते ही सर्वप्रथम आपको इसका एक हिस्सा अलग कर लेना है जो आपकी बचत कहलाएगा फिर इस बचत को एक ऐसी जगह निवेश करना है जहां आपकी यह बचत आपके लिए संपत्ति निर्माण का कार्य करेंगी। बचत करके कोई अमीर नहीं बनता लेकिन बचत को निवेश करके बहुत से लोगों को अमीर बनते देखा गया है आपके पास निवेश के लिए कई विकल्प मौजूद है आप स्टॉक में ,क्रिप्टो में ,रियल स्टेट में स्टार्टअप्स में निवेश कर सकते हैं सभी विकल्पों के अपने अपने जोखिम हैं किसी मेें कम तो किसी मेें ज्यादा। 


2. सीखना जारी रखें -

 कहते हैं जिसे सीखना बंद कर दिया उसने जीना बंद कर दिया।  सभी अमीरों में एक समानता पाई जाती है कि वो हर चीज से कुछ ना कुछ सीखते हैं फिर उस सीख को अपने जीवन में उतारते हैं गलतियां करते हैं फिरों गलतियों से दोबारा सीखते हैं और यह क्रम निरंतर चलता रहता है अक्सर देखा गया है की आम लोग गलती होने के भय से जोखिम कभी लेते ही नहीं है । जोखिम न लेने के  कारण ही वे कभी सफलता का स्वाद चख ही नहीं पाते कौन कहता है कि सफल लोगों से गलती नहीं होती बल्कि सच तो यह है की वे गलतियों से सीख कर ही सफल हुए हैं। 

आपको जहां से सीखने को मिले वहां से सीखिये किताबों को अपना दोस्त बनाइये लोगों से मिलिए दूसरों के अनुभवों से  सीखिये कहने का तात्पर्य है कि सीखना जारी रखिये क्या आपको मालूम है वारेन वफे़ आज भी किताबें पढ़ते हैं वास्तव में उन्हें किताबें पढ़ने की आज क्या जरूरत? आपके मन में भी यह प्रश्न जरूर उठता होगा। लेेकिन वास्तव में यही उनकी सफलता का राज है। 

आपको वित्तीय जानकारी जहां से भी मिले जिस भी रूप में मिले उसे उस रूप में ग्रहण कीजिए। आपको अपने अंदर सीखने की केवल ललक पैदा करनी है बाकी काम अपने आप हो जाएंगे लोगों को कम जानकारी होने के कारण ही वे नुकसान कर बैठते हैं  फिर इसका पूरा दोष अपनी किस्मत को दे देते हैं लेकिन सच हम सभी जानते हैं उनकी असफलता का कारण था कि उन्हें पूरा ज्ञान नहीं था आधे अधूरे ज्ञान के साथ ही वे वित्तीय दुनिया में जोखिम लेने के लिए उतर गए थे। 


मेहनत पर भरोसा रखें-

देखिए मेहनत तो गधा भी करता है लेकिन वास्तव में उसे अपनी दिशा का ज्ञान न होने के कारण ही वह सदैव गधा ही लिरह जाता है हम सब मनुष्य हैं हमारे पास प्रभु द्वारा दी गई अद्भुत बुद्धि है जिसकी सहायता से हम अच्छे बुरे का ज्ञान कर सकते हैं सही गलत में फैसला कर सकते हैं।  आपको करना सिर्फ इतना है मेहनत तो करनी ही है इसके साथ साथ सही दिशा में करनी है लोगों को यही नहीं पता होता कि हम यह क्यों कर रहे हैं बिना किसी लक्ष्य के वे बस करते जाते हैं करते जाते हैं और अंत में पछतावे के सिवा कुछ नहीं रह जाता।  बहुत लोग कहते हैं कर्म करो और फल की चिंता ना करो लेकिन इसका सही अर्थ हमारे लिए जानना बेहद जरूरी है यहाँ कर्म से तात्पर्य सही दिशा में कर्म करने से है कर्म तो सभी करते हैं ना पशु पक्षी भी कर्म करते हैं।   मनुष्य में उचित बुद्धि होंने के कारण वह उचित निर्णय करने में भी सक्षम है अगर वह इसके बावजूद भी सही दिशा को नहीं चुन पता तो अंततः उसकी मेहनत बेकार जानी ही है। 

4. अवसर मत चुको-

 सफलता रातों रात नहीं मिलती है इस सफलता का स्वाद को चखने से पहले व्यक्ति  के जीवन में कई उतार चढ़ाव आते हैं तब कहीं जाकर उसे सफलता हाथ लगती है आपके सफल होने में अवसर भी महत्वपूर्ण कारण बनते हैं यह किसी भी रूप में के समक्ष आ सकते हैं धन के रूप में लोगों के रूप में तकनीक के रूप में   आपका काम बस इतना ही है आप इन्हें अपने हाथ से न जाने दे।  अगर आपने इन्हें अपने हाथ से जाने दिया तो एक चीज आपके पास रह जाएगी वह कहानी अवसर तो आया था मैं समय पर उसे पकड़ न सका वरना आज जिंदगी के अलग पड़ाव पर होता अवसर पकड़ने का साधारण सा मंत्र आपको दे देता हूं अपनी आंख नाक कान तीनों खुले रखे देखें दुनिया में क्या चल रहा है कहते हैं कि आपदा और अवसर सदैव एक साथ आते हैं केवल खेल है तो उसमें नजरिया का कोई इसे आपदा के रूप में देखता है तो कोई इसे अवसर के रूप में कोरोना महामारी के दौरान ऐसे ही स्थिति हम देख चुके जहां एक तरफ अर्थव्यवस्था में डूब रही थी वहीं दूसरी तरफ कंपनियों के कम्पनी के शेयर  सस्ते दामों पर उपलब्ध थे यदि आपने उसे स्थिति का लाभ उठाया होता तो आपका बैंक अकाउंट एक अलग ही रकम बोल रहा होता। 


 5.खर्चो का नियंत्रण रखें 

 आपकी बचत आपको अमीर नहीं बनती आपके खर्च नियंत्रण आपको अमीर बनते हैं अनाप सनाप खर्च केवल न आपकी वित्तीय बजट पर असर डालते हैं बल्कि आपके भविष्य की योजनाओं  असर डालते हैं।  जैसे जैसे अपने खर्चे काम करते हैं वैसे वैसे आपकी बचत बढ़ने लगती है बचत को निवेश करने से आपकी संपत्ति भी उसी रूप में बढ़ने लगती है जब भी आप खर्च करें अपने आप से प्रश्न करें की क्या यह खर्च करना अभी बहुत जरूरी है या नहीं यदि उसका उत्तर ना में मिले तो बेझिझक उस  खर्च को ना करिए दूसरा प्रश्न अपने आप से यह कीजिए कि इस खर्च का कोई अन्य विकल्प है यदि विकल्प मौजूद है तो हमेशा उस विकल्प को चुनिए जिसमे आपका खर्चा कम हो रहा हो 

उदाहरण के तौर पर यदि आपको  किसी आपको अच्छे होटल में खाना खाने का मन हो रहा हो इस समय आपके पास एक विकल्प मौजूद है आप अच्छे भोजन का  आनंद ढाबे पर भी ले सकते हैं इससे  आप अपना खर्चा कम कर सकते हैं सदैव विकल्पों की तलाश कीजिए  अब  आप में से बहुत लोग कहेंगेकी क्या अपनी इच्छा इच्छाओं का अंत करना सही है तो मैं यह बिल्कुल भी नहीं कह रहा हूं इच्छाएं कीजिए बस ध्यान रखिए की कही  भविष्य  में यह आपके लिए संकट बनकर न ऊबरे।

 आशा करता हूं मेरा यह ब्लॉग आपको पसंद आया होगा अगर इस ब्लॉग में त्रुटि हो गई हो तो उसके लिए हम क्षमा प्रार्थी है। आप अपने सजेशन कमेंट्स बॉक्स में हमें देते रहिए आपके सजेशन हमारी टीम के लिए दिशा निर्देश का कार्य करेंगे और हमें बेहतर कार्य करने के लिए भी प्रेरित करेंगे। तो इसी के साथ हम आपसे विदा लेते हैं मिलते हैं एक नए ब्लॉग मैं। 

Comments

Popular posts from this blog

अद्भुत ज्योतिर्लिंग बाबा बैद्यनाथ की कहानी

कहानी ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग की